Mudra Yojana के तहत 27 हजार करोड़ से अधिक का लोन सैंक्शन- वित्त मंत्री

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज विपक्ष पर करारा हमला बोला। खासकर सीतारमण ने कांग्रेस को घेरा। कांग्रेस द्वारा मोदी सरकार पर पूंजीपतियों के लिए काम करने के आरोप का जवाब देते हुए वित्त मंत्री ने बजट 2021 में किए गए सारे प्रावधानों को गिनाया। उन नीतियों के बारे में बताया जिससे कि देश के गरीबों को फायदा पहुंचा है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज संसद में कहा, ”मुद्रा योजना के तहत केंद्र ने 27,000 करोड़ रुपये से ज्यादा का कर्ज दिया। ये कर्ज कौन दामाद लेते हैं? सीतारमण ने कहा कि अगस्त 2016 से जनवरी 2020 तक UPI के माध्यम से डिजिटल लेनदेन की संख्या 3.6 लाख करोड़ से अधिक रही। UPI का इस्तेमाल किसके द्वारा किया जाता है? अमीर लोग? नहीं, मध्यम वर्ग, छोटे व्यापारी। क्या सरकार ने UPI अमीरों के लिए बनाया है ? कुछ दामादों के लिए बनाया है? नहीं।”

सीतारमण ने कहा कि कुछ लोगों को विपक्ष में रहकर एक आदत हो गई है कि भले ही सरकार गरीबों के लिए कुछ भी कर रही हो लेकिन वह सरकार पर बस आरोप लगाते रहते हैं। एक झूठी कहानी बताने की कोशिश की जा रही है कि यह सरकार पूंजीपतियों के लिए काम करती है।

सीतारमण ने कहा कि 80 करोड़ लोगों को मुफ्त अनाज बांटा गया। 8 करोड़ लोगों को मुफ्त गैस सिलेंडर दिए गए। 40 करोड़ लोगों के खातों में पैसे ट्रांसफर किए गए। जिसमें किसान, औरतें और दिव्यांग शामिल हैं।

सीतारमण ने कहा कि पीएम आवास योजना के तहत 1 करोड़ से ऊपर लोगों को मकान दिए गए। क्या ये अमीरों के लिए है? दो करोड़ से ऊपर घरों तक बिजली पहुंचाई गई है। सीतारमण ने अपने भाषण में बार-बार दामाद शब्द का इस्तेमाल किया जिसे लेकर कांग्रेस ने आपत्ति जताई।

निर्मला सीतारमण ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने MNERGA से सभी कमियों को दूर करने का काम किया और भाजपा सरकार ने योजना को प्रभावी ढंग से लागू किया। सीतारमण ने कहा, ” हमने योजना पर 90.469 करोड़ रुपये खर्च किए।”सीतारमण ने कहा कि बजट 2021 में कोविड को लेकर जरूरी राहत देने का काम किया गया है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.