राहुल गांधी ने कहा, मोदी चीन से डरते हैं, वह जवानों की शहादत पर थूक रहे हैं

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को संसद में भारत और चीन के बीच हुई बातचीत पर स्थिति स्पष्ट की और बताया कि पैंगोंग लेक के उत्तरी और दक्षिणी तटों से दोनों देशाओं की सेनाएं पीछे हटने लगी हैं। उन्होंने कहा कि कई मुद्दों पर चीन के साथ सहमति हो गई है और जल्द एलएसी पर यथास्थिति बहाल हो जाएगी। अब राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर हमला बोला है। एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कहा कि पीएम मोदी डरपोक हैं और वह चीन के सामने खड़े नहीं हो सके। भारत की सेनाएं डटी हैं लेकिन उन्हें कैलाश रेंज से वापस बुला लिया गया। उन्होंने कहा, ‘मोदी सरकार ने चीन के सामने मत्था टेक दिया है। वह जवानों के बलिदान पर थूक रहे हैं।’

राहुल गांधी ने कहा, प्रधानमंत्री मोदी क्यों चीन के मुद्दे से भाग रहे हैं। उन्होंने खुद सामने आकर बयान क्यों नहीं दिया? उन्होंने कहा कि देपसांग एरिया पर बात क्यों नहीं की गई। बता दें कि संसद में रक्षा मंत्री ने कहा था कि अभी चीन के साथ बातचीत जारी रहेगी। अगले चरण की बातचीत में देपसांग का मामला रखा जाएगा। कैलाश रेंज को खाली करने का भी मुद्दा इस बैठक में उठाया जा सकता है। अधिकारियों का कहना है कि अब देपसांग प्लेन, गोगरा हॉटस्प्रिंग्स और सीएनएन ट्रैक पर आगे की बातचीत होनी है।

राहुल गांधी ने इस मुद्दे पर कहा, ‘प्रधानमंत्री डरपोक हैं जो चीन के खिलाफ खड़े नहीं हो सकते। वे हमारी सेना के जवानों के बलिदान पर थूक रहे हैं। वे सेना के बलिदान को धोखा दे रहे हैं। भारत में किसी को भी ऐसा करने की इजाजत नहीं दी जानी चाहिए प्रधानमंत्री इस पर क्यों नहीं बोल रहे हैं। मोदी ने भारतीय क्षेत्र को चीन को क्यों दिया? इसका जवाब उन्हें और रक्षा मंत्री को देना चाहिए। क्यों सेना को कैलाश रेंज से पीछे हटने को कहा गया? देपसांग प्लेन्स से चीन वापस क्यों नहीं गया? हमारी जमीन फिंगर-4 तक है। मोदी ने फिंगर-3 से फिंगर-4 की जमीन चीन को पकड़ा दी है।’

उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हिंदुस्तान की जमीन चीन को पकड़ाई है यह सच्चाई है। मोदी जी इसका जवाब दें। मोदी जी ने चीन के सामने सिर झुका दिया है। जो रणनीतिक क्षेत्र है जहां चीन अंदर आकर बैठा है उसके बारे में रक्षा मंत्री ने एक शब्द नहीं बोला। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हिंदुस्तान की जमीन चीन को पकड़ाई है यह सच्चाई है। मोदी जी इसका जवाब दें। मोदी जी ने चीन के सामने सिर झुका दिया है। जो रणनीतिक क्षेत्र है जहां चीन अंदर आकर बैठा है उसके बारे में रक्षा मंत्री ने एक शब्द नहीं बोला।’

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.