रैली में जय श्री राम के अलावा जय बांग्ला का नारा लगाते हैं? सवाल पर शाह ने ममता पर कसा तंज

पश्चिम बंगाल में अगले कुछ महीनों में विधानसभा चुनाव होने हैं। यहां प्रमुख रूप से भारतीय जनता पार्टी और तृणमूल कांग्रेस के बीच मुकाबला माना जा रहा है। बीजेपी इस चुनाव में बाजी अपने नाम करने के लिए हर दांवपेंच आजमा रही है। ‘आज तक’ के एक कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे देश के गृहमंत्री और बीजेपी नेता अमित शाह ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर चुटकी ली।

दरअसल कार्यक्रम के दौरान एंकर रोहित सरदाना ने गृहमंत्री से पूछा कि रैलियों में केवल जय श्री राम बोलते हैं या फिर जय बांग्ला भी बोलते हैं? इसपर अमित शाह ने कहा कि हम तो जनता चाहती है वो सब बोलते हैं…इसपर एंकर ने पूछ लिया कि क्या-क्या चाहती है जनता आज बता दीजिए। इसपर अमित शाह ने आगे कहा कि अब दीदी नहीं है बोलने में मुझे दिक्कत नहीं है, चिढ़ेगी नहीं…मुझे मालूम नहीं है कि वो जय श्री राम के नाम से क्यों चिढ़ती हैं? और जय श्री राम को जिस तरह धार्मिक नारा बताने का प्रयास टीएमसी कर रही है वो गलत है…अगर यह धार्मिक नारा होता तो बंगाल की जनता इसे कभी स्वीकार नहीं करती।

अमित शाह ने आगे कहा कि जय श्री राम तुष्टिकरण के खिलाफ का प्रतीक है। बंगाल के अंदर दुर्गा पूजा मनाने के लिए हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ता है, बच्चे सरस्वती पूजा नहीं कर पाते..रामनवमी के दिन आप शोभा यात्रा नहीं निकाल पाएंगे,,,कहां जी रहे हैं आप…किस स्थिति में पहुंचा दिया। जो आक्रोश में जय श्री राम का नारा सुनाई देता है तो नारा ममता सरकार की तुष्टिकरण और वोट बैंक की राजनीति के खिलाफ है।

बता दें कि आज तक के ही कार्यक्रम में ममता बनर्जी ने भी अमित शाह पर जमकर जुबानी तीर चलाए। उन्होंने कहा कि ‘नरेंद्र मोदी के घर वालों के बारे में मैं भी बता सकती हूं…अमित शाह ने अपने बेटे को क्रिकेट बोर्ड में शामिल किया, लेकिन मैंने कभी कुछ नहीं कहा। वो मेरा भतीजा है लेकिन मैं ऐसी राजनीति नहीं करती।’

उन्होंने यह भी कहा कि अमित शाह अगर नंदीग्राम से चुनाव लड़के जीत जाएं तो उन्हें बंगाल का होम मिनिस्टर बना दूंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.