ममता बनर्जी के पास नहीं हैं अपना घर और गाड़ी, जानिए कितनी प्रॉपर्टी की मालकिन हैं ‘दीदी’

चुनावी मौसम में पश्चिम बंगाल की सियासत गरमा गई है। एक तरफ बीजेपी राज्य में अपनी राजनीतिक जमीन तलाश रही है, तो दूसरी तरफ सीएम की गद्दी पर काबिज ममता बनर्जी कुर्सी को बचाने के लिए जी-तोड़ प्रयास में जुटी हैं। पिछले 4 दशकों से अधिक वक्त से राजनीति में सक्रिय ममता बनर्जी पिछले दस सालों से पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री हैं। वो केंद्र में कोयला, रेल, मानव संसाधन एवं विकास, युवा मामले, खेल, महिला एवं बाल विकास मंत्री के रूप में भी काम कर चुकी हैं। राजनीति में इतने मुकाम हासिल करने के बावजूद उनके पास खुद का अपना घर नहीं है।

5 जनवरी 1955 को कोलकाता के एक बेहद सामान्य परिवार में जन्मीं ममता बनर्जी ने जो चुनावी हलफनामा दायर किया था, उसके मुताबिक उनके पास खुद का कोई वाहन या मकान नहीं है। उनकी कुल चल संपति 30.45 लाख रुपये की है। जबकि उनके बैंक खाते में 27.6 लाख रुपये जमा हैं। चुनाव आयोग को दी जानकारी में ममता बनर्जी ने बताया था कि उनके तीन बैंक खाते हैं। इनमें से एक दिल्ली में है। दो बचत खाते हैं और एक चुनाव खर्च के लिए खोला गया खाता है। उन्होंने बताया था कि उनके पास एक मल्टी जिम मशीन है जिसकी कीमत दो लाख 15 हजार रुपये है। इसके अलावा ममता बनर्जी के पास 9.75 ग्राम सोने के आभूषण हैं।

आपको बता दें कि ममता बनर्जी ने कलकत्ता विश्वविद्यालय से एमए तक पढ़ाई की है और उन्होंने एलएलबी भी की है। उन्होंने कांग्रेस के साथ अपनी सिय़ासी पारी शुरू की थी। 1975 में पश्चिम बंगाल में महिला कांग्रेस की जनरल सेक्रेटरी भी रहीं। हालांकि बाद में मनमुटाव के बाद रास्ता अलग कर लिया और खुद की पार्टी बना ली। ममता बनर्जी बेहद सामान्य जिंदगी जीती हैं। अक्सर उन्हें एकरंगा बॉर्डर वाली सूती साड़ी और हवाई चप्पल में देखा जा सकता है।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो सियासत में आने से पहले ममता बनर्जी स्टेनोग्राफर, स्कूल शिक्षक, निजी ट्यूटर और सेल्सगर्ल की नौकरी भी कर चुकी हैं। अपने प्रशंसकों के बीच ‘दीदी’ के नाम से मशहूर ममता बनर्जी को संगीत से काफी लगाव है, खासकर रबींद्र संगीत उन्हें खूब पसंद है। वो अपनी सेहत को लेकर भी सजग रहती हैं और हर दिन 4-5 किलोमीटर पैदल चलती हैं। खानपान का भी खास ख्याल रखती हैं। तेल-मसालेदार खाने से परहेज करती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.