राहुल गांधी के समर्थन में राकेश टिकैत, बोले- 4 लोग ही चला रहे देश, स्मृति ईरानी से कहा- अपने ‘घर’ पर ध्यान दें

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर बड़े आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि चार लोग इस देश की सरकार चलाते हैं और जो भी हो रहा है इन चार लोगों के लिए हो रहा है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष के बयानों का किसान नेता राकेश टिकैत ने समर्थन किया है। उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा- हां…यही लग रहा है कि चार ही आदमी हैं। विपक्ष को किसान मुद्दे पर संसद में बहस करनी चाहिए। केंद्र ने किसानों के लिए कानून बनाया जो उन्हें ही मंजूर नहीं तो सरकार इन्हें वापस ले। उन्होंने कहा कि किसान कृषि कानूनों के खिलाफ सड़कों पर है, सरकार की ऐसा क्या मजबूरी है जो कानून वापस नहीं ले रही।

किसान नेता टिकैत ने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के भाषण पर भी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि स्मृति ईरानी खाली हैं और उन्हें भी कुछ ना कुछ कहना है। इसलिए कहने के लिए कहना पड़ेगा। ईरानी जिस महाराष्ट्र से आती हैं वहां भी हालात खराब हैं। वो वहां के किसानों के लिए भी नीतियां बनाएं। महाराष्ट्र में फलों का जो किसान है उनके लिए सरकार नीतियां बनाएं। ईरानी को वहां जरूर ध्यान देना चाहिए जहां उनका घर है।

मालूम हो कि राहुल गांधी ने केन्द्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन की पृष्ठभूमि में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर प्रत्यक्ष निशाना साधते कहा कि वह अपने दोस्तों के लिए रास्ता साफ करना चाहते हैं। गांधी ने कहा कि ये कानून सिर्फ किसान का मुद्दा नहीं बल्कि गरीबों, मजदूरों और देश की 40 प्रतिशत जनता का मुद्दा और कांग्रेस पार्टी इन्हें रद्द करवाके ही मानेगी। गांधी ने सवाल किया कि प्रधानमंत्री मोदी कहते हैं कि उन्होंने ये कानून किसानों के हित में बनाए हैं, ऐसे में सवाल यह है कि पूरे देश में किसान दुखी क्यों हैं? दिल्ली की सीमाओं पर महीनों से लाखों किसान आंदोलन क्यों कर रहे हैं?

उन्होंने कहा कि इन कानूनों का लक्ष्य है कि, ’40 प्रतिशत लोगों का धंधा दो-तीन लोगों के हाथ में चला जाए। एक ही कंपनी पूरे देश का अनाज बेचे। उन्होंने कहा, ‘ये तीनों कानून लागू हो गए तो किसान तो गया, उसकी जमीन गई। मगर छोटा दुकानदार भी गया, व्यापारी भी गया, मजदूर गया। राहुल ने कहा, ‘उन्होंने यह किसानों के लिए तो नहीं किया, ना मजूदरों के लिए किया, ना छोटे दुकानों के लिए किया। उन्होंने यह हम दो हमारे दो के लिए किया। चार लोग इस देश की सरकार चलाते हैं और जो भी हो रहा है इन चार लोगों के लिए हो रहा है। इन 40 प्रतिशत लोगों पर पहला आक्रमण नोटबंदी के समय हुआ।’ (एजेंसी इनपुट)

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.