36 करोड़ रुपए का कुत्ता: कैसे खर्च करना है, कितना खर्च करना है – सब लिखित में है

इंटरनेट पर अक्सर ऐसी चीज़ों पर बहस छिड़ी रहती है, जिनके बारे में सोचना तक मुश्किल होता है। फ़िलहाल इंटरनेट पर एक ऐसी ही चीज़ वायरल हो रही है। खबर है 8 साल के एक मादा कुत्ते की। वो 5 मिलियन अमेरिकी डॉलर यानी लगभग 36 करोड़ रुपए की मालकिन है।

लूलू (Lulu) नाम है इस मादा कुत्ते का। बॉर्डर कॉली (Border Collie) नस्ल के इस मादा कुत्ते को 36 करोड़ रुपए अपनी मालिक की मृत्यु के बाद मिला है। अमेरिका के टेनेसी (Tennessee) स्थित नैशविले (Nashville) की रहने वाली बिल डोरिस (Bill Dorris) की मृत्यु पिछले साल हुई थी। उन्होंने 5 मिलियन डॉलर अपने कुत्ते के नाम किए थे।

रिपोर्ट्स के मुताबिक़ डोरिस (88) की इच्छा यही थी कि यह राशि एक ट्रस्ट को सौंपी जाएगी, जो लूलू की देखभाल करेगा। डोरिस ने सबसे पहले लूलू को अपनी दोस्त मार्था बार्टन (Martha Burton) के हवाले किया था। इसके अलावा महीने के हिसाब से उसका खर्च भी दिया था।

मार्था ने लूलू और डोरिस के बीच रिश्तों को लेकर भी कई बातें बताई। उन्होंने कहा, “मुझे नहीं पता इस बारे में क्या सोचा जाए, जिससे सब कुछ समझाया जा सके। फ़िलहाल के लिए बस इतना ही कहा जा सकता है कि उसे (डोरिस) अपने कुत्ते से कहीं ज़्यादा प्यार था।”

फ़िलहाल डोरिस की सम्पत्ति को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं हुई है। लेकिन तमाम मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ उसके दोस्तों ने खुलासा किया है कि रियल एस्टेट से लेकर निवेश क्षेत्र तक डोरिस की सम्पत्ति बहुत ज़्यादा थी। इसका सीधा मुनाफ़ा किसी और को नहीं बल्कि लूलू को होगा।

इस मामले में एक और अहम बात है कि इतनी बड़ी राशि का यह मतलब नहीं है कि इसे किसी भी तरह या कितना भी खर्च किया जा सकता है। लूलू के वर्तमान मालिक को सिर्फ उतना ही खर्च करने की अनुमति होगी, जितनी उसकी महीने भर की आवश्यकताएँ हैं।

मार्था का कहना है कि 5 मिलियन डॉलर एक कुत्ते पर खर्च करने के लिए बहुत होते हैं लेकिन वह प्रयास करती रहेगी। इसके अलावा कुत्ते की हर बातों का ख़याल रखते हुए उसकी सारी ज़रूरतों को वो पूरा करेंगी।

यह पहला ऐसा मौक़ा नहीं है, जब एक मालिक ने अपने कुत्ते के लिए इतनी मोटी रकम छोड़ी हो। फ़िलहाल इस बारे में कोई बात सामने नहीं आई है कि लूलू के मरने बाद 36 करोड़ की राशि का क्या होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.