टिकटॉक से बैन हटा सकते हैं जो बाइडेन, कोर्ट में स्टे लगाने की याचिका, चीन ने फैसले का किया स्वागत

पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप चीन को लेकर काफी सख्त थे और उन्होंने भारत के रास्ते चलते हुए कई चीनी मोबाइल एप्लीकेशन पर प्रतिबंध लगा दिया था। जिसमें टिकटॉक भी शामिल था। डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि चायनीज मोबाइल एप्लीकेशन अमेरिका की सुरक्षा के लिए खतरनाक है। डोनाल्ड ट्रंप सरकार के इस फैसले के बाद अमेरिका के एक अदालत में मुकदमा चल रहा था, जिसको लेकर अब बाइडेन प्रशासन ने कोर्ट में होल्ड लगाने की याचिका दायर की है। बाइडेन प्रशासन ने कोर्ट में कहा है कि वो पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा लिए गये इस फैसले की समीक्षा करना चाहता है।

बाइडेन प्रशासन के सत्ता संभालने के बाद अमेरिका का डिपार्टमेंट ऑफ कॉमर्स, पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के तमाम फैसलों की समीक्षा कर रहा है और उसी के तहत टिकटॉक और वीचैट पर चलाए जा रहे मुकदमे पर होल्ड लगाने की मांग कोर्ट से की गई है। व्हाइट हाउस प्रवक्ता जिन पास्की ने बयान देते हुए कहा है कि हम दोबोरा जांच करने की कोशिश करेंगे कि मोबाइल एप्लीकेशन टिकटॉक और वीचैट से देश की सुरक्षा को क्या खतरा है।

जो बाइडेन प्रशासन के द्वारा उठाए गये इस कदम का चीन ने खुले दिल से स्वागत किया है। चीन ने कहा है कि अमेरिका के इस फैसले से चीन और अमेरिका के बीच व्यापार में जो टेंशन था, उसमें कमी आएगी। हालांकि, चीन ने अपनी कंपनियों को अभी भी अमेरिका को लेकर सतर्क रहने को कहा है। चीनी विशेषज्ञों का मानना है कि दो दिन पहले अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच काफी गर्मजोशी से बातचीत हुई है जिसके बाद जो बाइडेन चीन से अच्छे संबंध बनाने की कोशिश में जुट गये हैं। इसके साथ ही जो बाइडेन का ये फैसला दिखाता है कि चीन को लेकर बाइडेन की नीति डोनाल्ड ट्रंप से अलग होने वाली है।

हालांकि, कुछ चायनीज एक्सपर्ट ये भी कह रहे हैं कि अमेरिका ने सिर्फ अभी कोर्ट प्रोसिडिंग्स पर रोक लगाने की अपील की है और असली सवाल ये है कि क्या अमेरिका टिकटॉक और वीचैट से बैन हटाता है। अगर बैन हटा लिया जाता है तो इसे अमेरिका के नये बाइडेन प्रशासन का स्वागत करने वाला फैसला माना जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.