दुनिया की दूसरी सबसे बूढ़ी महिला ने दे दी कोरोना को मात, 116 साल की उम्र में नहीं छोड़ी हिम्मत

कोरोना का प्रकोप अब धीरे धीरे कम हो रहा है। लेकिन खतरा अब भी टला नहीं है। हालांकि वैक्सीन आ चुकी हैं और लोगों को बारी-बारी से टीका लगाया जा रहा है। इसी बीच फ्रांस से एक चौंकने वाली खबर सामने आई है। यहां दुनिया की दूसरी सबसे उम्रदराज इंसान ने कोरोना वायरस को हरा दिया है। फ्रांस की बुजुर्ग नन लूसिल रैंडन ने 116 साल की उम्र में महामारी को मात दी है।

नन लूसिल रैंडन कोरोना वायरस से उबरने वाली यूरोप की सबसे उम्रदराज शख्स बन गई हैं। लूसिल रैंडन फ्रांस के टूलोन शहर में रहती हैं। अपने रिटायरमेंट होम में वे 16 जनवरी को पॉजिटिव पाई गई थी। जिसके तीन हफ्ते बाद वे इससे रिकवर कर गई। एक फ्रांसिसी अखबार को दिये गए इनतेरवेव में नन ने बताया कि उन्हें अहसास भी नहीं हुआ कि वह कोरोना से बीमार हैं। लूसिल रैंडन देख नहीं सकती हैं और व्हीलचेयर का इस्तेमाल करती हैं। लेकिन उन्होंने कहा कि कोरोना रिपोर्ट आने पर उन्हें चिंता नहीं हुई।

रिटायरमेंट होम के कम्यूनिकेशन मैनेजर डेविड टवेला ने बताया कि कोरोना रिपोर्ट आने के बाद नान ने खुद के स्वास्थ्य के बारे में नहीं पूछा बल्कि ये जानना चाहा कि उनके रूटीन (जैसे कि खाने के समय या सोने का समय) में बदलाव तो नहीं किया जाएगा। डेविड टवेला ने बताया कि नान को कोरोना का बिलकुल डरनहीं था।

जनवरी में इस रिटायरमेंट होम के 88 में से 81 लोगों को कोरोना हुआ था जिनमें 10 लोगों की मौत हो गई है। वहीं इससे पहले स्पेन में 113 साल की एक महिला मारिया ब्रेनियस ने भी मई 2020 में कोरोना वायरस को मात दी थी। वहीं बता दें लाखों लोगों की कोरोना वायरस के कारण जान भी जा चुकी है। इसके बाद हाल ही में कई देशों में कोरोना वायरस का नया प्रकार भी सामने आया है। वहीं एस्ट्राजेनेका के टीके को बनाने वाले वैज्ञानिकों ने बड़ा दावा किया है कि ये टीका ब्रिटेन में पता चले कोविड-19 के नए स्वरूप के खिलाफ भी काम कर सकता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.